UP TET Syllabus and Exam Pattern 2021 | UP TET Paper 1 Syllabus 2021 | UP Teacher eligibility test

 

नमस्कार विद्यार्थियों

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा का नोटटफिकेशन जारी कर दिया गया है जो लोग उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (Teacher eligibility test) में सम्मिलित होना चाहते हैं उनको यूपी टेट सिलेबस (UPTET Syllabus 2021 PDF in Hindi) की संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए। यदि आपको यूपी 

टीईटी ससलेबस (UPTET Syllabus 2021 Notification )की संपूर्ण जानकारी है तो आप अपनी परीक्षा की रणनीति बहुत अच्छी तरीके से बना सकते हैं।

क्योंकि इस परीक्षा में प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में प्रतियोगी बैठते हैं। अतः यदि आप बिना syllabus के तैयारी करेंगे तो आप पीछे रह जाएंगे। 

आइये देखते हैं UPTET का SYLLABUS और EXAM PATTERN 

Contents

UPTET latest Syllabus and exam pattern 2021: 

हम जानते हैं कि किसी भी परीक्षा की तैयारी यदि उस परीक्षा की मांग के अनुसार किया जाय तो उस परीक्षा में सफल होने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है। यदि बात करें परीक्षा के मांग की तो यह उस परीक्षा को आयोजित करने वाली संस्था के द्वारा जारी किये गए Syllabus और Exam pattern के माध्यम से समझा जा सकता है। 

आईये सबसे पहले UPTET की परीक्षा के Exam pattern को समझते हैं:

UP TET Exam pattern 2021:- 

◆  यू०पी०टी०ई०टी० (UP TET) में सभी प्रश्न एक सही उत्तर के साथ चार विकल्प वाले बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQs) होंगे, प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का होगा।

◆   नकारात्मक मूल्यांकन (Negative Marking) नहीं होगा । 

◆  यूपीटीईटी (UPTET) के दो पेपर होंगे।

◆   प्रथम प्रश्न पत्र (Paper-ist) ऐसे व्यक्ति के लिए जो कक्षा 1 से 5 तक के लिए शिक्षक बनना चाहते हैं (प्राथमिक स्तर Primary level) द्वितीय प्रश्न पत्र (Paper-lInd) ऐसे व्यक्ति के लिए होगा जो कक्षा 6 से 8 तक के लिए शिक्षक बनना चाहते हैं – (Junior level)

Paper – 1 (Primary level) प्राथमिक स्तर [कक्षा 1 से 5 तक]

इस परीक्षा में 150 marks के 150 प्रश्न पूछे जाते हैं। अर्थात प्रत्येक  प्रश्न 1 अंक का होता है । तथा इस पूरे पेपर को हल करने के लिए 2 घंटे 30 मिनट या 150 मिनट (2:30 hours) का समय दिया जाता है। 

इस पेपर की संरचना व विषय सूची निम्न है , इसमें सभी अनिवार्य हैं–

1. बाल विकास एवं शिक्षण विधि : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

2. भाषा प्रथम (हिंदी) : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

3. भाषा द्वितीय (अंग्रेजी अथवा उर्दू अथवा संस्कृत में से एक) : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

4. गणित : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

5. पर्यावरणीय अध्ययन : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

इस प्रकार इसमें कुल 150 अंक के 150 प्रश्न पूछे जाते हैं। 

Paper – 2 (Junior level) उच्च प्राथमिक स्तर [कक्षा 6 से 8 तक]

इस परीक्षा में भी 150 marks के 150 प्रश्न पूछे जाते हैं। अर्थात प्रत्येक  प्रश्न 1 अंक का होता है । तथा इस पूरे पेपर को भी हल करने के लिए प्रथम प्रश्नपत्र के जैसे ही 2 घंटे 30 मिनट या 150 मिनट (2:30 hours) का समय दिया जाता है। 

इस पेपर की संरचना व विषय सूची निम्न है , इसमें सभी अनिवार्य हैं–

1. बाल विकास और शिक्षण विधि (अनिवार्य) : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

2. भाषा I (हिन्दी) (अनिवार्य) : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

3. भाषा II (अंग्रेजी अथवा उर्दू अथवा संस्कृत में से कोई एक) (अनिवार्य) : 【30 प्रश्न : 30 अंक】 

4. (क) गणित एवं विज्ञान शिक्षक के लिए गणित/विज्ञान 

    (ख) सामाजिक अध्ययन या सामाजिक विज्ञान शिक्षक के लिए सामाजिक अध्ययन

    (ग) अन्य किसी शिक्षक के लिए (क) अथवा (ख) कोई भी। 【60 प्रश्न : 60 अंक】 

इस प्रकार इसमें भी कुल 150 अंक के 150 प्रश्न पूछे जाते हैं।

Paper – 1 (Primary level) प्राथमिक स्तर [कक्षा 1 से 5 तक] Syllabus 2021: UPTET Paper 1 Syllabus 2021

आईये विषयवार इस paper का syllabus देखते हैं–

UPTET Syllabus 2021: paper – I
  बाल विकास एवं शिक्षण विधियां (30 प्रश्न:30 अंक)

 

(क) विषय-वस्तु

◆ बाल विकास: अर्थ, इसकी आवश्यकता तथा इसके क्षेत्र, बाल विकास की अवस्थाएं, शारीरिक एवं मानसिक, संवेगात्मक तथा भाषा विकास। अभिव्यक्ति क्षमता, सृजनात्मक एवं रचनात्मक क्षमता का विकास। बाल विकास को प्रभावित करने वाले कारक एवं उनका आधार।

◆ सीखने का अर्थ तथा सिद्धांत: अधिगम का अर्थ प्रभावित करने वाले कारक, अधिगम की प्रभावशाली विधियां। अधिगम के नियम- थार्नडाइक के सीखने का मुख्य नियम एवं अधिगम में उनका महत्व। अधिगम के प्रमुख सिद्धांत तथा कक्षा शिक्षण में इनकी व्यवहारिक उपयोगिता, थार्नडाइक का प्रयास एवं त्रुटि का सिद्धांत, पावलव का संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत,  स्किनर का क्रिया प्रसूत अधिगम सिद्धांत, कोहलर का सूर्या अंतर्दृष्टि सिद्धांत,  प्याजे का सिद्धांत,  सीखने का वक्र- अर्थ एवं प्रकार, सीखने में पठार का अर्थ और कारण एवं  निराकरण।

◆ शिक्षण एवं शिक्षण विधाएं: शिक्षण का अर्थ एवं शिक्षण का सिद्धांत,  संप्रेषण, शिक्षण के सिद्धांत, शिक्षण के सूत्र, शिक्षण की प्रविधियां, शिक्षण की नवीन विधाएं, सूक्ष्म शिक्षण एवं शिक्षण के आधारभूत कौशल।

◆ समावेशी शिक्षा- निर्देशन एवं परामर्श: शैक्षिक समावेशन से अभिप्राय,  पहचान, प्रकार,  निराकरणयथा अप वंचित वर्ग, भाषा, धर्म, जाति, क्षेत्र, वर्ण, लिंग, शारीरिक दक्षता, मानसिक दक्षता। समावेशन के लिए आवश्यक उपकरण, सामग्री, विधियां, टी एल एम एवं अभिवृत्तिया। बच्चों के लिए विशेष शिक्षण विधियां जैसे ब्रेल लिपि आदि। समावेशी बच्चों हेतु निर्देशन एवं परामर्श। परामर्श में सहयोग देने वाले विभाग एवं संस्थाएं जैसे मनोविज्ञान शाला उत्तर प्रदेश प्रयागराज, मंडलीय मनोविज्ञान केंद्र मंडल स्तर, जिला चिकित्सालय,  जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में प्रशिक्षित डाइट मेंटर, पर्यवेक्षण एवं निरीक्षण तंत्र, समुदाय एवं विद्यालय की सहयोगी समितियां, सरकारी एवं गैर सरकारी संगठन, बाल अधिगम में निर्देशन एवं परामर्श का महत्व।

(ख) . अधिगम और अध्यापन (UP TET Paper 1 syllabus 2021) 

◆ बालक किस प्रकार सोचते और सीखते हैं; बालक विद्यालय प्रदर्शन में सफलता प्राप्त करने में कैसे और क्यों असफल हो जाते हैं। 

◆ अधिगम और अध्यापन की बुनियादी प्रक्रियाएं; बालकों की अधिगम कार्य नीतियाँ: सामाजिक क्रिया-कलाप के रूप में अधिगम; अधिगम के सामाजिक संदर्भ। 

◆ एक समस्या समाधान करता और एक वैज्ञानिक  अन्वेषक के रूप में बालक। 

◆ बालकों में अधिगम की वैकल्पिक संकल्पना, अधिगम प्रक्रिया में महत्वपूर्ण चरणों के रूप में बालक की त्रुटियों को समझना।  बोध और संवेदनाएं। प्रेरणा और अधिगम। 

◆ अधिगम में योगदान देने वाले कारक- निजी एवं पर्यावरणीय

UPTET Syllabus 2021:
 भाषा-I हिंदी (30 प्रश्न : 30 अंक)

क.  विषय- वस्तु

1. अपठित अनुच्छेद।

2. हिंदी वर्ण माला (स्वर एवं व्यंजन)

3. वर्णों के मेल से मात्रिक तथा अमात्रिक शब्दों की पहचान।

4. वाक्य रचना।

5. हिंदी की सभी ध्वनियों के पारस्परिक अंतर की जानकारी।

6. हिंदी भाषा की सभी ध्वनियों, वर्णो,  अनुस्वार, अनुनासिक एवं चंद्र बिंदु में अंतर।

7. संयुक्ताक्षर एवं अनुनासिक ध्वनियों के प्रयोग से बने शब्द।

8. सभी प्रकार की मात्राएं।

9. विलोम, समानार्थी, तुकांत, अतुकांत, समान ध्वनि वाले शब्द। 

10. संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया एवं विशेषण के भेद।

11. वचन, लिंग एवं काल।

12. प्रत्यय, उपसर्ग, तत्सम, तद्भव व देशज शब्दों की पहचान एवं उनमें अंतर।

13. लोकोक्तियां एवं मुहावरे के अर्थ।

 14. संधि: स्वर संधि– दीर्घ संधि, गुण संधि, वृद्धि संधि, यण संधि, अयादि संधि। व्यंजन संधि एवं: संधि।

15. वाच्य समाज एवं अलंकार के भेद।

16. कवियों एवं लेखकों की रचनाएं।

ख.  भाषा विकास का अध्यापन: (UP TET Paper 1 syllabus 2021) 

1. अधिगम और अर्जन।

2. भाषा अध्यापन के सिद्धांत

3. सुनने और बोलने की भूमिका

4. मौखिक और लिखित रूप से विचारों के संप्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिगम में व्याकरण की भूमिका पर निर्णायक संदर्श।

5. एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियाँ; भाषा के कठिनाइयाँ, त्रुटियां और विकास।

6. भाषा कौशल।

7. भाषा बोधगम्यता और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियां और विकार।

8. अध्यापन- अधिगम सामग्रीयाँ: पाठ्य पुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषीय संसाधन।

9. उपचारात्मक अध्यापन। 

UP TET Syllabus 2021: भाषा-II English (30 प्रश्न : 30अंक)

 

(क).  विषय- वस्तु

1. Unseen passage

2. Kind of sentence/Subject and predicate

3. Part of Speech: Noun, Pronoun, Adverb, Adjective, Verb, Preposition, Conjunction.

4. Tense- present, past, future.

5. Articles

6. Punctuations

7. Word formation

8. Active and Passive Voice

9. Singular and Plural

10. Gender

UP TET Paper 1 Syllabus 2021: भाषा-II उर्दू (30 प्रश्न : 30अंक)

 

(क). विषय- वस्तु

1. अपठित अनुच्छेद

2. सही इमला एवं तलफ्फुज की मस्क।

3. मशहूर शायरों एवं अदीबो की हालाते जिंदगी

मुहावरे, 

4. विस्तार से जानने के लिए दिए गए पीडीएफ को डाउनलोड कर ले।

UP TET Syllabus 2021: भाषा-II  संस्कृत (30 प्रश्न :30 अंक)

(क.)  विषय- वस्तु 

1. अपठित अनुच्छेद

2. संज्ञाएं –  अकारांत पुलिंग, अकारांत स्त्री लिंग, अकारांत नपुंसक लिंग, इकारांत स्त्री लिंग, उपकारांत पुलिंग, घर, परिवार, परिवेश, पशु पक्षियों, घरेलू उपयोग की वस्तुओं के संस्कृत नामों से परिचय।

3. सर्वनाम

4. क्रियाएं

5. शरीर के प्रमुख अंगो के संस्कृत शब्दों का प्रयोग।

6. अव्यय

7. संधि

8. संख्याएं – संस्कृत में संख्याओं का ज्ञान

9. लिंग, वचन, स्वर के प्रकार, व्यंजन के प्रकार, अनुस्वार एवं अनुनासिक व्यंजन।

10. स्वर, व्यंजन, समास, उपसर्ग, पर्यायवाची शब्द, विलोम शब्द, कारक, प्रत्यय एवं  वाक्य।

11. कवियों एवं लेखकों की रचनाएं।

( ख). भाषा विकास का अध्यापन:- UP TET Paper 1 Syllabus 2021:

1. अधिगम एवं अर्जन।

2. भाषा अध्यापन के सिद्धांत

3. सुनने और बोलने की भूमिका

4. मौखिक और लिखित रूप से विचारों के संप्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिगम में व्याकरण की भूमिका पर निर्णायक  संदर्श।

5. एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियाँ: भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ एवं  विकार।

6. भाषा कौशल

7. भाषा बोधगम्यता और प्रवीणता का मूल्यांकन करना

अध्यापन- अधिगम सामग्रीयाँ:  पाठ्यपुस्तक मल्टीमीडिया सामग्री कक्षा का बहुआयामी संसाधन।

8. उपचारात्मक अध्यापन।

UP TET Syllabus 2021: गणित  (30 प्रश्न : 30अंक)

 

क.  विषय- वस्तु 

1. संख्याएँ एवं संख्याओं का जोड़, घटाना, गुणा, भाग। 

2. लघुत्तम समापवर्त्य एवं महत्तम समापवर्तक । 

3. भिन्नों का जोड़, घटाना, गुणा एवं भाग। 

4. दशमलव -जोड़, घटाना, गुणा व भाग। 

5. ऐकिक नियम। 

6. प्रतिशत। 

7. लाभ-हानि। 

8. साधारण ब्याज । 

9. ज्यामिति-ज्यामितीय आकृतियाँ एवं पृष्ठ, कोण, त्रिभुज, वृत्त। 

10. धन (रूपया-पैसा)। 

11. मापन – समय, तौल, धारिता, लम्बाई एवं ताप। 

12. परिमिति (परिमाप) – त्रिभुत, आयत, वर्ग, चतुर्भुज। 

13. कैलेण्डर। 

14. आंकड़े। 

15. आयतन, धारिता-घन, घनाभ । 

16. क्षेत्रफल – आयत, वर्ग। 

17. रेलवे या बस समय-सारिणी। 

18. आंकड़ों का प्रस्तुतीकरण एवं निरूपण।

(ख) अध्यापन संबंधी मुद्दे : UPTET Paper 1 Syllabus 2021

1. गणितीय/तार्किक चिंतन की प्रकृति; बालक के चिंतन एवं तर्कशक्ति पैटर्नी तथा अर्थ निकालने और अधिगम 

की कार्य नीतियों को समझना। 

2. पाठ्यचर्या में गणित का स्थान। 

3. गणित की भाषा। 

4. सामुदायिक गणित। 

5. औपचारिक एवं अनौपचारिक पद्धतियों के माध्यम से मूल्यांकन। 

6. शिक्षण की समस्याएं। 

7. त्रुटि विश्लेषण तथा अधिगम एवं अध्यापन के प्रासंगिक पहलू। 

8. नैदानिक एवं उपचारात्मक शिक्षण ।

UP TET Syllabus 2021: 
 पर्यावरणीय अध्ययन (विज्ञान, इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र एवं पर्यावरण) (30 प्रश्न : 30 अंक)

 

क) विषय-वस्तु : 

1. परिवार। 

2. भोजन, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता । 

3. आवास। 

4. पेड़-पौधे एवं जन्तु । 

5. हमारा परिवेश। 

6. मेला । 

7. स्थानीय पेशे से जुड़े व्यक्ति एवं व्यवसाय । 

8. जल। 

9. यातायात एवं संचार । 

10. खेल एवं खेल भावना । 

11. भारत -नदियाँ, पर्वत, पठार, वन, यातायात, महाद्वीप, एवं महासागर । 

12. हमारा प्रदेश-नदियाँ, पर्वत, पठार, वन, यातायात । 

13.संविधान । 

14. शासन व्यवस्था स्थानीय स्वशासन, ग्राम-पंचायत, नगर-पंचायत, जिला-पंचायत, नगर-पालिका, नगर-निगम, जिला-प्रशासन, प्रदेश की शासन व्यवस्था, व्यवस्थापिका, न्यायपालिका, कार्यपालिका, राष्ट्रीय पर्व, राष्ट्रीय-प्रतीक, मतदान, राष्ट्रीय एकता। पर्यावरण आवश्यकता, महत्व एवं उपयोगिता, पर्यावरण-संरक्षण, पर्यावरण के प्रति सामाजिक दायित्वबोध, पर्यावरण संरक्षण हेतु संचालित योजनाएँ । 

ख) अध्यापन संबंधी मुद्दे : UPTET Paper 1 Syllabus 2021

1. पर्यावरणीय अध्ययन की अवधारणा और व्याप्ति । 

2. पर्यावरणीय अध्ययन का महत्व, एकीकृत पर्यावरणीय अध्ययन । 

3. पर्यावरणीय अध्ययन एवं पर्यावरणीय शिक्षा । 

4. अधिगम सिद्धांत । 

5. विज्ञान और सामाजिक विज्ञान की व्याप्ति और संबंध । 

6. अवधारणा प्रस्तुत करने के दृष्टिकोण । 

7. क्रियाकलाप 

8. प्रयोग/व्यावहारिक कार्य । 

9. चर्चा | 

10. सतत् व्यापक मूल्यांकन। 

11. शिक्षण सामग्री/उपकरण । 

12. समस्याएं 

निष्कर्ष:- 

इस प्रकार इन उपरोक्त chapters को पढ़कर तथा इस syllabus के अनुसार अपनी पढ़ाई को एक सुनियोजित ढंग से अगर परीक्षा की तैयारी की जाय तो सफलता निश्चित ही कदम चूमेगी। 

◆ इसी प्रकार अन्य परीक्षाओं के syllabus और exam pattern जानने के लिए हमारी इसी वेबसाइट के संपर्क में रहें। क्योंकि यहां आपको एकदम सही ढंग से सरल भाषा में और प्रामाणिक जानकारियां मिलती हैं और मिलती रहेंगी। 

धन्यवाद🙏 
आकाश प्रजापति
(कृष्णा) 
ग्राम व पोस्ट किलहनापुर, कुण्डा प्रतापगढ़
छात्र:  प्राचीन इतिहास कला संस्कृति व पुरातत्व विभाग, कलास्नातक द्वितीय वर्ष, इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय

Tag:

UPTET , UPTET VACANY 2021 , UP TET Syllabus and exam pattern 2021 , UPTET latest syllabus , UP TET paper 1 syllabus and exam pattern 2021 , UP TET 2021 recruitment details , UP tet syllabus , UP TET 2021 Exam pattern , UP TET latest syllabus and exam pattern.

Leave a Comment

x