Bauddha dharma ka prabhav | बौद्ध धर्म का प्रभाव | Bauddh dharm ka mahatva | बौद्ध धर्म का महत्व

Bauddha dharma ka prabhav : एक संगठित धर्म के रूप में लुप्त होने के बावजूद, बौद्ध धर्म ने भारतीय समाज और अर्थव्यवस्था पर अपना प्रभाव छोड़ा। ई.पू. 500 के आस-पास बौद्धों ने उत्तर-पश्चिम के लोगों की समस्याओं के बारे में गहरी जागरूकता दिखाई। लोहे के हल से की जाने वाली खेती, व्यापार, और सिक्कों के … Read more

Reading comprehension practice set | Unseen passage for ssc exams

Reading comprehension practice set Passage -1 : Nehru’s was a many-sided personality. He enjoyed reading and writing books as much as he enjoyed fighting political and social evils or resisting tyranny. In him the scientist and the humanist were held in perfect balance. While he kept looking at social problems from a scientific standpoint, he … Read more

Equality in Indian constitution | भारतीय संविधान में समानता | समानता का अधिकार

समानता (Equality in Indian constitution) : लोकतंत्र का मूलमंत्र होता है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मंत्री, मुख्यमंत्री, सार्वजनिक पदाधिकारी, साधारण नागरिक, कानून के समक्ष सब समान होते हैं। वे सब देश के साधारण न्यायालयों व कानून के अधीन हैं। इसी को कानून के समक्ष समानता कहा जाता है जो विधि के शासन का एक अंग है। प्रस्तावना … Read more

Mountbatten plan | माउंटबेटन योजना | माउंटबेटन योजना के प्रावधान | Mount betan yojana

Mountbatten plan : कैबिनेट मिशन योजना के तहत पं. जवाहर लाल नेहरू को अन्तरिम सरकार हेतु आमंत्रित किये जाने के विरोध में मुस्लिम लीग ने 16 अगस्त 1946 को ‘प्रत्यक्ष कार्यवाही दिवस’ मनाया; जिससे पूरे देश में भीषण साम्प्रदायिक दंगे हुए। बाद में अन्तरिम सरकार में शामिल होकर उसने गतिरोध उत्पन्न किया तथा संविधान सभा … Read more

Traditions of British constitution : ब्रिटिश संविधान में प्रथाएं | ब्रिटेन के संविधान में परंपरा

ब्रिटिश शासन व्यवस्था किसी लिखित संविधान पर आधारित नहीं हैं। इसका अधिकांश भाग जैसे राजपद, मन्त्रिमण्डल तथा पार्लियामेंट सम्बन्धी मौलिक व्यवस्था लिखित कानूनों द्वारा न की जाकर उन रीति-रिवाजों, प्रथाओं तथा परम्पराओं (Traditions of British constitution) द्वारा की जाती है।

9 important historical sites of ancient india | प्राचीन भारत के ऐतिहासिक स्थल

important historical sites of ancient india : प्राचीन भारत के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल और उनका महत्व नीचे दिया गया है। इन ऐतिहासिक स्थलों से जुड़े प्रश्न राज्य व केंद्र की एकदिवसीय व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। इनके विवरण निम्नलिखित हैं- प्राचीन भारत के ऐतिहासिक पुरास्थल : अतरंजीखेड़ा – important historical sites of … Read more

Modal verb practice questions | Best 50+ Modal verb questions with answers

Modal verbs are also called helping verbs that are used to express hypothetical conditions such as possibility, probability, intent, ability, necessity, certainty, permission, suggestions/advice, compulsion, request, command, likelihood, moral obligation, duty, habit, preferences, purpose, offer, prohibition, desire/strong desire, wish, prayer, expectations, unfulfilled actions, challenge or courage etc. Here are 50+ Modal verb practice questions given … Read more

Present continuous tense exercise | इन वाक्यों का अंग्रेजी में अनुवाद करना बहुत कठिन है | Best 100+ Present continuous tense practice questions

यहां आज के इस article के अंतर्गत हम Present continuous tense exercise के Questions की बात करेंगे। यहां हम इस आर्टिकल के माध्यम से Present continuous tense practice questions को solve करेंगे जिससे कि हम present continuous tense के सारे translations आसानी से कर पाएं। क्योंकि अमूमन देखा गया है कि जब भी कोई concept … Read more

Koshal mahajanapad | कोशल महाजनपद | छठी सदी ई०पू० का कोशल महाजनपद | For UPSC

कोशल महाजनपद

Koshal mahajanapad : छठीं शताब्दी ईसा पूर्व के आते-आते हमें भारत की राजनीति में महाजनपदों का अस्तित्व दिखाई देता है। इन महाजनपदों की संख्या 16 (16 महाजनपद) थी जोकि पूरे उत्तर भारत, दक्षिण भारत तथा पश्चिमोत्तर भारत में फैले हुए थे किंतु ये अधिकांशतः उत्तर भारत में विद्यमान थे। ऐसा प्रतीत होता है कि सोलह … Read more

भारत शासन अधिनियम 1935 | Government of India Act 1935 | Best for UPSC

भारत के वर्तमान संविधान का प्रमुख स्रोत भारत शासन अधिनियम 1935 को कहा जा सकता है क्योंकि भारत शासन अधिनियम 1935 और वर्तमान भारतीय संविधान में काफी हद तक समानता देखी जा सकती है। 1919 के संवैधानिक सुधारों की समीक्षा करने के लिये सरकार ने 1927 में एक आयोग स्थापित किया जिसे साइमन आयोग कहते … Read more

x